गुरुवार, 4 दिसंबर 2008

उसकी शादी

मीता सोनी,
बड़ौदा, गुजरात

मैं पेशे से एक इंटीरियर डिज़ाइनर हू, रंगो के साथ खेलना सुकून देता है.. अपना घर बनाना सबका सपना होता है.. खुशी होती है जब दूसरो के सपनो में रंग भरती हू.. नेस्बी भी ज़िंदगी के रंगो से सज़ा एक अनूठा ब्लॉग है इसमे एक रंग मेरा भी.. अच्छा लगा या बुरा बताएगा ज़रूर..

बी.

कॉम का लास्ट ईयर…. कॉलेज में हम लड़कियो का एक ग्रूप हुआ करता था….जो कॉलेज के पहले साल से साथ रहता था….लोग आते और चले जाते पर हम कुछ लड़कियो ने ग्रूप को बनाए रखा था…उसमे एक फ्रेंड थी मेरी… उ. प. के किसी शहर से थे वो लोग.. उस्के पापा बिजनसमैन थे और उनकी फैक्ट्री हुआ करती थी बड़ौदा में. … सीधे सादे लोग थे….
थर्ड ईयर के शुरू होते ही उसके पापा ने उसके लिए लड़के देखना शुरू कर दिया…. और बहुत ही जल्द अहमदाबाद के उन्ही की कास्ट के एक लड़के से उसकी सगाई कर दी…. लड़का अहमदाबाद की किसी कॉलेज में लेक्चरर था… जब से सगाई हुई मेरी फ्रेंड थोड़ी सी और रिज़र्व रहने लगी …और हम बाकी की सारी दोस्त , जैसे की होता रहता है, उसकी खिंचाई करने का मज़ा लेने लगी…ग्रूप की पहली लड़की की सगाई हुई थी तो हम सब खुश थी….मेरी दोस्त मुझसे कुछ ज़्यादा करीब थी…हम अच्छा ख़ासा एक दूसरे के बारे में जानते थे…थोड़े दिनों बाद हमारे ग्रूप में शादी की बातो को लेकर डिस्कशन हुआ….पता चला..कि उ.प. की होने के कारण उन लोगो में दहेज का बहुत ज़्यादा रिवाज है…। पूरा घर बसाकर देने के बावजूद कई बार लड़कियो को काफ़ी दिक्कत होती है शादी के बाद और इस बात से वो डर रही थी…॥ उसने मुझे काफ़ी कुछ डीटेल में बताया की कैसे शादी के फेरो के वक्त भी परेशानिया हो सकती है….

जबकि हमारे गुजरात में कुछ कास्ट को छोड़कर दहेज का कोई खास रिवाज नही…..लड़के वाले कई बार कहे देते है..कि आपको अपनी बेटी को जो देना हो वो दे दो…..हमारी और से कोई माँग नही है… मेरे लिए उस वक्त ये समझ पाना काफ़ी मुश्किल था……मैंने कह दिया की अगर तुम्हारी शादी में, मैं हुई और ऐसा कुछ हुआ तो मैं सीधा पुलिस को फोन कर दूँगी….चाहे जो हो जाए…. मैं ये सब नही चला सकती … और वो भी मेरी अपनी दोस्त के साथ…. मेरी सहेली वैसे ही थोड़ी चूज़ी थी….. ज़्यादा दोस्त नही थे उसके…हा .... स्टडी में काफ़ी अच्छी थी….हर साल फर्स्ट क्लास आया था उसका … और उसे आगे पढ़ने का भी बड़ा मन था….सगाई होने पर उसे अहसास हुआ की अब काफ़ी कुछ उसकी मर्ज़ी से नही होगा….जिसमे सबसे पहले पढ़ाई का बलिदान था….लोगो से जल्दी मिक्स नही होने वाले नेचर की वजह से वो अपने मंगेतर से बात करने से भी कतराती थी…और उसका मंगेतर उससे बात करने के लिए बेताब था…..उस वक्त मोबाइल तो थे नही की डाइरेक्ट बात हो सके…जमाना लॅंडलाइन फोन का था या फिर खत का…..ईमेल भी तो नही थे….. शहर अलग होने के कारण वो बार बार मिलने की भी नही सोच पा रहा था… सगाई के बाद उनका फोन पर बाते करने का सिलसिला शुरू हुआ…. थोड़े दिनों बाद मुझे मेरी फ्रेंड ने बताया की वो बात नही कर पा रही….उसे समझ नही आता था की क्या बात करे….सगाई के दिन मिलने के बाद वो फिर से मिले भी नही थे और सगाई के दिन तो सिर्फ़ रस्मे हुई थी…वो उस लड़के के बारे में ज़यादा जानती नही थी …और उसका खुद का नेचर भी ऐसा था की बात नही कर पा रही थी …. उसे डर लग रहा था… तो फोन को टालती रहती थी…. एक दिन उसने मुझे पूछा की वो क्या करे…..मुझे तो खत लिखने की बीमारी थी उस वक्त…. मैने सुझाव दिया की अगर वो बात नही कर पा रही तो कुछ दिन खत से कम चलाए…. उसने अपने मंगेतर को ये सुझाव सुनाया….वो फॉर्चुनेट्ली राज़ी हो गया … और उसने ही खुद शुरुआत की….जिस दिन पहला खत आया वो खुश हो गयी….लेकर मेरे पास आई…और मुझसे पढ़वाया.. फिर कहा अब इसका जवाब दो… मैं हेरान हो गई….मैने कहा मैं कैसे लिखू? काफ़ी अनबन के बाद हम दोनो ने मिलके उस खत का जवाब दिया…..फिर उन दोनो का खतो का सिलसिला शुरू हुआ…वो खुश थी….जब भी खत आता वो मेरे पास आती और हम मिलके उस खत का जवाब लिखते…. फिर एक बार उसने मेरे बारे में अपने मंगेतर को बताया…की मैने ये सुझाव दिया और अब भी वो मुझसे खत लिखने में हेल्प लेती है…उसके मंगेतर ने दूसरे खत के साथ एक खत मेरे नाम का भेजा … अलग से …. उसके बाद कई बार ऐसा हुआ ... उसे समझाने की कई बाते मुझे लिखता और मैं उसे समझा देती... हम सब एक दूसरे के बारे में अच्छे से जान ने लगे थे….और वो अब फोन पर भी आराम से बात कर पाती थी….सगाई को करीब 4-5 महीने हो गये थे…और मेरी सहेली खुश थी अब…. फिर एक दिन उसके मंगेतर ने मिलने के बारे में कहा…वो भी घरवालो से छुपकर…क्यूकी उनके यहा शादी से पहले मिलना जायज़ नही माना जाता था…. मिलने की बात पर मेरी सहेली परेशान हो गई…उसने कहा की वो तो नही मिलेगी…..उसके बाद डाइरेक्ट लेटर मुझ पर आया उसे समझने को….. मैने थोड़ा भाव खाया और मेरी सहेली को मना लिया….वो डर रही थी की किसी दिन उसके घर वालो को पता चल गया तो प्राब्लम हो जाएगी…मैने कहा हम सब तुम्हारी दोस्त है …हम सब के साथ ही तुम उसे मिलोगी …..फिर क्या प्राब्लम है….और जाके कौन कहने वाला है तुम्हारे घर पर ?……कॉलेज के गार्डेन में ही एक दिन मिलने का प्लान बनाया….उसके मंगेतर ने कहा था की उसे अकेले नही मिलना….अगर हम सब भी साथ हो तो उसे कोई प्राब्लम नही था….तो पूरा ग्रूप इस थ्रिलिंग टाइम को एंजाय करने का सोच रहा था….

उस वक्त तक उस लड़के ने हम पर एक अच्छी इंप्रेशन बना ली थी….बातो से वो मेच्योर लग रहा था….और काफ़ी फॉर्वर्ड भी … उसके कुछ दोस्त के साथ वो मेरी फ़्रेंड से मिलने आया .. सब साथ में मिले….देखने में ठीकठाक था….पर मेरी सहेली के लिए ठीक था….उससे मिलके मुझे लगा की उसकी शादी में कोई प्राब्लम नही होगी….शादी के बाद वो खुश रखेगा उसे……तो हम सब खुश थे…फिर धीरे धीरे खत कम होते गये और उसके बाद वो लोग फोन पर आरामसे बाते करने लगे……

साल ख़तम होने पर था….दिसम्बर या जन्वरी में उसकी शादी पक्की हुई…..तारीख आ गई…..उसने हम फ्रेंड्स को बोल दिया था की 2 दिन हमे उसके घर पर ही रुकना है….उसका घर मेरे घर से काफ़ी दूर था…और आने जाने में काफ़ी वक्त चला जाए ऐसा था … तो हम ने भी वही ठीक समझा….


शादी के अगले दिन हम उसके घर पर शिफ्ट हो गये …. सारी सहेलिया….पहली शादी थी तो सब मस्ती के मूड में थेउसके पापा ने हमे हमारे जीजाजी को संभलने की सूचना दे दी थी….घर पर उसने हमें उसे दी जाने वाली हर एक चीज़ दिखाईकपड़ेगहने तक तो बात ठीक थी….मुझे आश्चर्य हुआ जब मैने पीतल के बर्तनो से भरा पूरा कपबोर्ड देखाजो हम कभी इस्तेमाल भी नही करते थे….मैने मेरी सहेली से पूछा….ये क्यू? उसने कहा ..बसदेना पड़ता हैरिवाज है…..जो बर्तन तो वो कभी इस्तेमाल करने वाले भी नही थे…..फिर भीफिर उसने बताया की अभी टीवी, फ्रीज़, कपबोर्ड और फर्निचर भी आएगा और सजाया जाएगा…..मैने कहा क्यू? …उसने कहा दहेज मेंमैने कहा की तुम्हारे पापा अपनी मर्ज़ी से दे रहे है या उन्होने माँगा है….उसकी मम्मी वही पर थी…..वो मेरे सामने देखने लगीमेरी सहेली ने कोई जवाब नही दिया…..पर मुझे बहुत बुरा लगाउसकी मम्मी के जाते ही मेरी सहेली ने कहा मीताप्लीज़ …. ये शादी होने देना….तुम कुछ मत करना.. हम सब सहेलिया एकदम चुप हो गईमैने उसे कहाकी तुमने अपने मंगेतर से कोई बात नही की…..या उसने कोई विरोध नही किया? ….. वो चुप हो गई…..

सारी सहेलियो ने अब मुझसे कहा….मीताउनके रिवाजो से इतने से काम हो रहा है तो होने दोअगर वो खुद ही कुछ नही बोल रही तो……मैं अपनी सहेली को जानती थी….बडौदा मैं पली बड़ी होने के कारण उसे खुद की इस रिवाज से परहेज था….वो खुद भी चाहती थी की ऐसा कुछ ना होमुझे आश्चर्य हुआ की क्या उसने अपने इस विचार के बारे में लड़के से कोई बात नही की?

शायद की होगी ..क्या पताशादी का समय रात का था….फेरो का समय था 12 बजे के बाद कामुझे रात को जागने की कभी आदत नही थी….पर फिर भी जाग रहे थेशादी शुरू हुई….. शुरू होते ही हमने लास्ट टाइम सबको चाय कॉफी पिलाईऔर आराम से बैठे…..शादी मेरी सहेली के घर की छत पर ही थी…..उसका कमरा बीचवाले फ्लोर पर था…..सारे मेहमान चले गये थेबस घर के कुछ लोग..हम लड़किया और बाराती जाग रहे थे….. पंडित मंत्र बोल रहा था और नींद के कारण मुझे कुछ सुनाई नही दे रहा था….उसकी मम्मी ने आकर हमसे कहा की अगर हम सोना चाहे तो हमारी सहेली के कमरे में जाके सो सकते है….हम लोग थक भी गये थे तो सब नीचे आए….फेरे शुरू होने में थोड़ी देर थी….नीचे उसके कमरे में हम लड़कियो ने थोड़ी देर तो बाते कीफिर एक के बाद एक सोने लगी…..


इतने में अचानक उपर से ज़ोर से आवाज़ आई …..किसी के रोने की…..हम एकदम से सब जाग गये…. मैं सो रही थी तो फाटक से खड़ी हो गई…..मेरी सहेली की मॅमी के रोने की आवाज़ थीहम सब उपर भागे.... जो देखा वहा वो उससे पहले सिर्फ़ हिन्दी मूवीस में देखा थामेरी सहेली का दूल्हा तमाशा देख रहा था….और सहेली सहम के खड़ी थि..उसकी मॅमी रो रही थीकुछ लोग उन्हे संभालनेकी कोशिश कर रहे थेऔर उसके पापा हाथ में पगड़ी लिए गिड़गिडा रहे थे….3 फेरे हो चुके थेऔर चौथे फेरे को पूरा करने से पहले लड़के के बाप ने 2 लाख कैश माँगा था….कह रहा था की अभी दो तो फेरे होंगे वरना नही होंगे….मेरी सहेली के पापा के पास उस वक्त कुछ नही थाउसने और सब लोगो ने मिलके समझाया…..मुझे जैसे ही ये पता चला की वहा दहेज माँगा जा रहा है…. बहुत गुस्सा आया…. सब लड़किया ….बिल्कुल सुन्न होके खड़ी थी…..मैने मेरी सहेली की और देखा….और सीधे नीचे की और चलने लगी….नीचे जाके मैने सबसे पहले जो लोग नीचे सो रहे थे उनको फोन के बारे में पूछा….किसी को पता चला की मैं फोन ढूँढ रही हूतो मेरी सहेली के किसी रिश्तेदार ने जाके उपर उसकी मॅमी को बताया….दो दिन से उसी घर में रहने के कारणउसके करीबी रिश्तेदार जान गये थे ..की हम उसकी सहेलिया है….तो उसकी चाची नीचे आई…..हम सब लड़कियो को एक कमरे में इक्कठा किया और बाहर से दरवाजा बंद कर दिया……बाकी सब लड़कियो को हिदायत देके गई की मीता को बाहर मत आने देना……

आंटी अभी भी रो रही थी.. और मुझसे बर्दाश्त नही हो रहा था…. पूरी रात कुछ नही कर सकी मैं….उस दिन अपने आपको पहली बार इतना लाचार पाया….काश उस रात मेरे पास मोबाइल होता….सब लड़किया सिसक रही थी….गुस्से के कारण मेरे मुँह से शब्द भी नही निकल रहे थे


उपर सुबह पैसे देने का वादा करके फेरे ख़तम हुए….सुबह हमे कमरे से निकाला गयाबिदाई से पहले मेरी सहेली दुल्हन बन के बैठी थी…. सब मिली….मैं उसके सामने गई..उसे देखा….वो नज़रे नही मिला पाई….मुझे गुस्सा आया….उसका दूल्हा कही और बैठा था…….. बाराती वापस जा रहे थे….जाते जाते उसका दूल्हा मुझसे मिलने आया…. मैने उससे कहा की आपसे ऐसी उम्मीद नही थी…..वो कुछ नही बोलाऐसा लगा की कोई अजनबी खड़ा था वहा….

मैने सोचा था….कॉलेज में लेक्चरर था तो कम से कम वो ये नही होने देगा ….. इतना समझदार तो होगा….की कोई कूरीवाज को हटाने के लिए सबसे पहले हम नौजवानो को ही पहल करनी पड़ेगी…. अगर लड़की के मा बाप अपनी बेटी को कुछ दे सकते है और देना चाहते है तब तक बात ठीक है…. पर ये कैसा रिवाज है की फेरो के वक्त पर किसी की इज़्ज़त ऐसे उछाली जाए….

आप में से कई सारे लोगो ने तो ये हर साल देखा होगा…..आज भी सुना है कई जगहो पर ये दोहराया जाता है…. मुझे आज तक समझ में नही आयाकी ये कौनसी प्रथा है जहा पर इंसान को बिकने के लिए कोई शर्म नही होती….उपर से वो सर उठाके कहता है की दहेज में इतने माँगे…..आज जितना लड़के पढ़ते है उतना ही लड़किया पढ़ती है….दहेज लड़की के घर वाले देते है तो फिर क्यू लड़के शादी के बाद लड़की के घरवालो को इतना नही संभालते जितना लड़की अपने ससुराल वालो को संभालती है…. अफ़सोस हैगुस्सा है….और नफ़रत भी…..अपने दोस्तो से उम्मीद रखती हू ….की कम से कम वो लोग अपनी शादी में ऐसी कोई हरकत होने से बचाए….

10 टिप्पणियाँ:

Parul ने कहा…

nafrat aur gussa jaayaz hai ..meeta.. jis din ladkey khud bikney se inkaar karengey...ye kuprathaa usi pal khatm ho jaayegi!!

कुश ने कहा…

सोचता था शिक्षा हर कुरीति को ख़त्म करती है.. पर जब ऐसे उच्च शिक्षित लोग ऐसा करते है.. तो घिन्न आती है.. दहेज एक ऐसी कुरीति है जिसको जल्द से जल्द रौंद देना चाहिए... मैं खुद से शुरुआत कर सकता हू..

अनूप शुक्ल ने कहा…

अपने देश की यह विडम्बना है कि दहेज जैसी कुरीति बावजूद तमाम पढ़ाई-लिखाई के जारी है। जब तक युवा लड़के-लड़कियां इसके विरोध में नहीं आयेंगे मन से तब तक यह बदस्तूर जारी रहेगी। कुश जल्द ही उदाहरण पेश करें। इंतजार है। एक अच्छी, संवेदनशील पोस्ट!

लवली कुमारी / Lovely kumari ने कहा…

घटना पढ़ते- पढ़ते राजकुमार संतोषी की "लज्जा" की याद हो आई..हमारे यहाँ ऐसी परिस्थितियों में जमकर धुलाई की जाती है

डॉ .अनुराग ने कहा…

समाज की इस कुरीति में अगर माँ बाप हिम्मत बाँध कर उस वक़्त शादी न होने दे तो अच्छा रहता है ,कम से कम ऐसे लोगो के साथ जीवन तो गुजारा नही जाता ,शायद इस प्रथा को हिंदू धर्म में लड़की को जायदाद के हिस्से के विकल्प के रूप में बनाया गया था ,पर हमारे समाज ने इसे अपने अनुरूप ढाल लिया है ...वैसे बरात लौटना भी दुल्हे के लिए शर्मसार होता है

विनय ने कहा…

बुझे ज़ख़्मों को ख़ूब उकेरा है!

नीरज गोस्वामी ने कहा…

शर्म आती है जब हम ख़ुद को इंसान कहते हैं जबकि काम हैवानो सा करते हैं...ना जाने कब ये कुरीति दूर होगी हमारे समाज से...होगी भी या नहीं...क्या पता?
नीरज

रंजना [रंजू भाटिया] ने कहा…

जाने कब यह प्रथा बंद होगी ...किसी को तो पहल करनी पड़ेगी ..

rajiv ने कहा…

नेस्बी, एक खुशनुमा एहसास
आइए आज ऐसे ब्लॉग की बात करें जहां न तो ब्लागर का बखानों से भरा प्रोफाइल है, ना दंभ, ना आडम्बर और ना अनावश्यक बौद्धिकता. ये ब्लाग धीरे धीरे बहती निर्मल शांत नदी की तरह है जिसके किनारे की बयार में कहीं रात की रानी की महक है तो कहीं वनचम्पा की खुशबू. चलते हैं नेस्बी के किनारे. नेस्बी यानी सृजनशीलता का ऐसा दरिया जो आपको ताजगी का अहसास कराता है, संघर्ष के लिए प्र्रेरित करता है और पॉजिटिवटी से भर देता है. यह ब्लॉग महिलाओं के सम्मान, उनके अधिकार, उनकी संवेदनाओं, उनके वजूद की दास्तान है. यह ब्लॉग हर उस महिला के लिए है जिसे नारी होने पर गर्व है.
सही मायने में नेस्बी जिंदगी का एक ऐसा कैनवास है जिसमें आपनी अपनी पसंद के रंगों को भर सकते हैं. इसमें जिंदगी में उतार-चढ़ाव के इंद्रधनुषी रंग हैं.
इसमें पारुल की नानी मधुरा के रूप में उनकी नेस्बी के संघर्ष, अस्मिता और जीवन दर्शन का सारांश है तो मीता सोनी की पोस्ट 'उसकी शादीÓ में ऐसे संस्मरण हैंं जिसमें दहेज के दंश को झेलती नारी की टीस है तो मेल डॉमिनेटेड सोयायटी में पुरुष की लाचारी पर तीखा कटाक्ष भी. उन्नति शर्मा ने 'स्त्रियोचितÓ शीर्षक से अपनी पोस्ट में स्त्री होने के मायने और संबंधों की आर्टिफिशियलिटी पर सवाल उठाए हैं. नेस्बी में सिद्धहस्त लेखिकाओं के बीच श्रद्धा जैन जैसी डिब्यूटेंट ब्लॉगर भी हैं जिन्होंने 'हां, मैं पास हो गईÓ षीर्षक से अपनी पहली पोस्ट लिखी है. इसमें बाल मनोविज्ञान को समझने में एक महिला, एक टीचर की सेंसिटिविटी को इतने सहज और सरल ढंग से प्रस्तुत किया गया है कि लगता ही नहीं कि यह उनकी पहली रचना है.
इसके बाद की दो ब्लॉगर भी डिब्यूटेंट हैं. एक हैं पल्लवी त्रिवेदी और दूसरी हैं सई करोगल. पल्लवी मध्य प्रदेश पुलिस सेवा की अधिकारी हैं. सेल्फांफिडेंस और डिटरमिनेशन की मिसाल. पुलिस सर्विस की सपाट सख्त और कड़वी सच्चाइयों के बीच गजब का सेंस आफ ह्यूमर. उनके ब्लॉग 'कुछ अहसासÓ में उनकी पोस्ट 'साहब... एक शेर पकड़ा है वो भी गूंगा बहराÓ में इसे महसूस किया जा सकता है. सई करोगल की पोस्ट में जिंदगी के उतार-चढ़ाव और संघर्षों के बीच गजब की पाजिटिविटी है. इसी तरह मीता की पोस्ट में डॉल से दुुल्हन बनती नारी की खूबसूरत सी कहानी है. तो आइये संडे की सुबह http://nesbee.blogspot.com/ पर नेस्बी के साथ शुरू करें. दिन की इससे बेहतर शुरूआत और क्या हो सकती है.
- राजीव ओझा
Also see http://inext.co.in/epaper/Default.aspx?edate=6/14/2009&editioncode=2&pageno=18

Dinesh Rohilla ने कहा…

yahi khaआज लोग जो पुराने अच्छे रीती रिवाज ही उनको तो ताक पर रख देते है और जो उनका स्वार्थ पूरा कर(चाहे कितने भी बुरे क्यों न हो ), उनको नही छोड़ सकते , ये सिर्फ mantility ही है, रिवाज नही.

 

Desenvolvido por EMPORIUM DIGITAL